About Shree Radhavallabh Lal | History of Shree Radhavallabh Lal Ji | Shree Hita Ambrish Ji

Shree Radhavallabh Lal - an embodiment of love

प्रेम रस घन मूर्ति श्री राधावल्लभ लाल

हिंदी में पढ़े
Image Image Image Image Image Image

Love in its tangible form appeared as Shree Radhavallabh Lal in Shree Vishvanath’s (Lord Shiva) heart. There is no distinction between the Rasik Saints’ ultimate wealth Shree Radhavallabh Lal and the element of unconditional divine love. Love is the basis of this creation, it is in the beginning, middle and the end.

The significance of ‘Hita’ implying unconditional love that is everlasting and omnipresent is universally accepted. Love is the most natural and definitive means to reach out to God. The veil between a true devotee and the divine is uncovered with pure absolute love. It is only in the state of love wherein God becomes oblivious of His Godliness and succumbs to the will of His devotee. Love is the true nature of a being. Till the being does not unconditionally accepts his true nature he cannot achieve fulfilment and cannot experience divine love.The adoration of Shree Radhavallabh Lal is the adoration of absolute love. The obtainment of the divine is inconceivable till the being is pure from within.

Kabir established this beautifully in this couplet,
“Kabira maan nirmal bhayaa jo Ganga ka neer, pichhe pichhe Hari phire kahat kahat Kabir Kabir”
(Kabir’s heart is now pure like the water of the Ganga and Hari(God) follows him saying Kabir, Kabir)

Tulsidas’s quatrain expresses his path of attainment of the divine, he wrote,
“Nirmal man jan so mohi paava, mohi kapat, chhal, chhidr na bhaava”
(I (God) only receive those with a pure heart, I(God) do not like those filled with lies, deceit and those lacking capacity to receive me.

Implying that it is not possible to attain God without being pure of heart. Love is the only true emotion which has the ability to wash away the impurities that have accumulated over many lifetimes. Love alone has the capacity that can make divine love appear in the heart: turn a drop into an ocean. But for love to be depicted it needs a beautiful form and for that Shree Radhavallabh emerged.
God has 24 incarnations and Shree Krishna’s form is the supreme personality of GOD head himself. The remaining ‘avtaars’ (incarnations) have emotional limitations to connect with the varied emotions of a being. Its only with Shree Krishna that a devotee is free to establish any form of connection of love, be it as a child, a friend or a lover. Within these forms of connection, the emotion of ‘dasya’(service), vatsalya (parental love), ‘sakha’(friend), ‘kaant’ (Gopi’s love) are dominant.

Shree Radha is an epitome of unconditional love, compassion and worshipped by Shree Krishna himself. In this mesmerising periphery of Vrindavan, Shree Radha is "Rasa Murti" and Shree Krishna is "Bhaav Murti". But in actuality both are an expression of one love and this duality of expression is just for the fulfillment of ‘Lilas’(the bliss of which increases with every moment).
Shree Radha is ‘Rasa’ personified and at the same time the Vedanta philosphy mentions the supreme ‘Raso Vaisa’. So, Shree Radha is supreme here. She is the "Guru Tatava" as well. She is the light of grace, which makes the ‘jeevatman' (human being) eligible for this supreme love. This undisclosed secret was revealed 500 years ago by the founder of the Radhavallabh sect, Shree Hita Harivansh Mahaprabhu, a dear ‘sakhi’ (maiden friend) of Shree Radha and Shree Krishna.

Shree Radha and Shree Krishna’s most intimate companion (sakhi) Vanshi (flute) incarnated as Shree Hita Harivansh Mahaprabhu for the welfare of the humanity suffering in Kaliyuga. It was the grace of Lalita sakhi that the’Vanshi’ appeared on this earth, it was her humble persuasion to Shree Radha and Shree Krishna to grace the being with their love and transcendental ‘lilas’(pastimes), for which Mahaprabhu appeared in this world.
Shree Harivansh Mahaprabhu is that transcendental flow of celestial love and to bestow this nectar of love for welfare of humanity, Mahaprabuhu ji established the deity of Shree Radhavallabh Lal (whom he had received as the dowry gift from Brahman Atmadev) at Madan Ter in Shree Vrindavan Dham.

By lovingly serving the divine couple as their maiden-friends in the eight-time serving process (Ashtayam seva), he established the attribute of love as a form of devotion. Love as a form of devotion itself has also been called ‘Dashdha Bhakti’ (Tenth step of bhakti which comes after nine steps of bhakti ‘Navdha Bhakti’).
This devotion process is that stage of self-immersion where the divine couple are at the will of their maiden friends and are eternally dependent on them. This form of ‘rasa’ nectar is based on the worship of beauty. Shree Radhavallabh Lal, is one soul with two bodies, whose beauty is so alluring that with darshan itself melts the heart of most unyeilding beings.

Shree Radhavallabh Lal is an ocean of beauty where waves of divine love are eternally flowing and are always increasing. Their darshan stirs something within and heart starts experiencing an outpour of divine love.The presence of Shree Radhavallabh Lal and his proximity makes one’s life self reliant and free of any dualities. By doing the ‘parikrama’(circumambulation) of his divine form from head to toe, the being is spontaneously filled with divine love.
For the one who seeks the lotus feet of the divine couple, should seek shelter in Shree Vrindavan Dham, as that is their own divine abode and of Shree Yamuna, who carries within it the unguents of sandal (angraag) and is witness to the couple’s divine pastimes. She purifies the being from all kinds of miseries.

Shree Vrindavan Dham’s tree-branches and leaves, that are drenched with the love of divine couple, and the ‘raj’(dust) of Vrindavan, that is blessed with the eternal flow of the nectar of love from Priyaji’s (Radharani’s) lotus feet- taking their shelter is absolutely essential.
The form of love is supremely pure while the subjects of this material world are impure. Hence except the God of love, no other can receive this emotion of the being.
Hence this love as a form of devotion should be lovingly inculcated in association with the Rasiks of Vrindavan, bearing no other desires, being free from shackles of knowledge and actions, being completely aligned with divine intentions, to pursue absolute love as a form of devotion.

रसिकों के परम धन श्री राधावल्लभलाल और प्रेमतत्व इन दोनों में किंचित भी भिन्नता नहीं। प्रेम का साकार रूप ही श्री राधावल्लभलाल जी के रूप में विश्वनाथ जी के हृदय से प्रकट हुआ। प्रेम ही सृष्टि का आधार है , आदि, मध्य और अवसान है। प्रेम अर्थात 'हित' का महत्व सर्वदा, सर्वत्र स्वीकारणीय है। प्रेम ही भगवद् प्राप्ति का सहज और सर्वश्रेष्ठ साधन है। भक्त और भगवान के मध्य का आवरण केवल विशुद्ध प्रेम ही अविछिन्न कर सकता है। वह प्रेम की ही स्थिति है, जहाँ भगवान अपनी भगवत्ता की विस्मृति कर भक्तों के वशीभूत हो जाते हैं। जीव का मूल स्वभाव भी प्रेम ही है। जब तक जीव अपने इस स्वभाव की प्रतीति कर इसकी पूर्णता को उपलब्ध नहीं हो जाता, प्रेम प्रभु को प्राप्त नहीं कर सकता। श्री राधावल्लभलाल जी की उपासना मूल रूप से प्रेम तत्व की ही उपासना है। जब तक जीव पूर्ण रूप से निर्मल नहीं हो जाता, तब तक उसे भगवद् तत्व की प्राप्ति असंभव है। इस सत्य को कबीर जी ने अपने दोहे के माध्यम से प्रतिष्ठित किया है कि-

"कबीरा मन निर्मल भया, ज्यूँ गंगा का नीर।
पीछे-पीछे हरी फिरे, कहत कबीर-कबीर"

तुलसीदास जी की एक चौपाई में स्वयं भगवान ने अपनी प्राप्ति का मार्ग बताते हुए कहा है कि -
"निर्मल मन जन सो मोहि पावा, मोहि कपट, छल, छिद्र न भावा"

अर्थात निर्मलता के अर्थात निर्मलता के भाव को धारण किए बिना प्रभुप्राप्ति असंभव है। फिर ऐसा कौन सा भाव है जो जीव से उसके जन्मों की मैल को अनावरित कर पूर्णतया निर्मल कर दे। प्रेम ही एकमात्र ऐसा साधन है जो जीव के चित्त से उसके जन्मों से अर्जित कर्मों की धूल को अनावरित कर, उसे पूर्णतया निर्मल कर उसके हृदय में प्रेम प्रभु को प्रकट कर देता है, बिन्दु को सिन्धु कर देता है। लेकिन प्रेम को प्रसारित होने के लिए रूप की आवश्यकता होती है। उसी के लिए श्री राधावल्लभलाल जी का प्राकट्य हुआ। भगवान के 24 अवतारों में श्री कृष्ण जी ही पूर्णावतार हुए।उनके शेष अवतारों में मर्यादा की कहीं न कहीं एक अवरोधकता है जो जीव के समस्त भावों को तद्भव रूप में ग्रहण नहीं कर सकती। मात्र श्री कृष्ण जी ही हैं जिनसे जीव अपने भावानुसार कोई भी सम्बन्ध स्थापित कर अपने हृदय के प्रेम को परिष्कृत कर उन्हें प्राप्त कर सकता है। जिसमे दास्य, वात्सल्य, सखा और कांत भाव प्रमुख हैं। श्री राधा निष्काम प्रेम की अधिष्ठात्री हैं। स्वयं श्रीकृष्ण जिनके श्री चरणों की उपासना करते हैं। वृंदावन की बस दिव्याद्भुत परिसीमा में श्री राधा रस मूर्ति एवं श्रीकृष्ण भाव मूर्ति हैं। एक ही प्रेम तत्व के दो साकार विग्रह | परन्तु यह अद्भुत द्वैत केवल लीला के रसास्वादन के लिए ही है। श्री राधा रस तत्व हैं और वेद जब उस परम तत्व की ओर संकेत करते हैं तो ‘‘रसो वैसः’’ कहकर मौन हो जाते हैं। श्री राधा वही रस तत्व हैं। वही गुरू तत्व भी है जिनकी कृपा के प्रकाश में जीवात्मा इस दिव्य लीला के दर्शन करती है। इस परम रहस्य को लगभग 500 वर्ष पूर्व, राधावल्लभ संप्रदाय के प्रवर्तक श्री महाप्रभु जी जो प्रिया प्रियतम की प्रिय सहचरी है, उन्होंने उद्घाटित किया।

प्रिया प्रियतम की अंतरंग सहचरी श्री वंशी ही महाप्रभु जी के रूप में कलयुग के ताप से ग्रसित जीवों के कल्याणार्थ इस धरा-धाम पर अवतरित हुई। उनके इस धरा धाम पर अवतरित होने के मूल में ललिता सखी की कृपा रही। ललिता सखी की अनुनय-विनय से ही प्रिया-प्रियतम ने वृन्दावन की रसरीति और नित्य विहार की रस केलि को जीवों के आस्वादन हेतु वंशी को धरा धाम पर भेजा।

श्री हरिवंश चंद्र महाप्रभु जो प्रिया-प्रियतम के मध्य बहती हुई प्रेम रस धारा है, इसी अनुपम प्रेम रस का दान करने हेतु, उन्होंने प्रेम रस सार मूर्ति श्री राधावल्लभलाल जी के विग्रह जो उन्हें ब्राह्मण आत्मदेव जी से दहेज स्वरुप मिले, उनको श्री वृन्दावन धाम में मदन टेर पर विराजमान किया।सहचरी भाव से अष्टयाम सेवा पद्धति से लाड लडाकर प्रेम लक्षणा भक्ति की प्रतिष्ठा की। प्रेम लक्षणा भक्ति को ही दशधा भक्ति भी कहा गया है। यह भक्ति आत्मविसर्जन की वह स्थिति है जहाँ प्रियालाल सहचरियों के हैं और प्रियालाल सदैव सहचरियों पर आश्रित हैं। यह रस पद्धति रूप की उपासना पर आधारित है। श्री राधावल्लभलाल जो एक प्राण दो देह हैं उनका रूप इतना मोहक है कि जड़ से जड़ जीव भी इनके दर्शन मात्र से द्रवित हो जाता है। श्री राधावल्लभलाल रूप का सिन्धु है जहाँ प्रेम की तरंगें सदा प्रवाहमान और सतत् प्रवृद्धमान रहती हैं। इनके दर्शन से रोमावली पुलकित होने लगती है तथा हृदय में सहज रूप से प्रेम प्रसारित होता रहता है। श्री राधावल्लभलाल का सानिध्य जीव को निर्भय और निर्द्वन्द बनाता है। इसलिए नख से शिख तक, शिख से नख तक इनके रूप की परिक्रमा बार-बार करनी चाहिए। इनके रूप की परिक्रमा करने से जीव सहज ही में रस-रूप हो जाता है। प्रिया प्रियतम के श्री चरणों की प्राप्ति के लिए श्री वृन्दावन धाम का आसरा जो कि प्रिया प्रियतम का निजगेह है, श्री यमुना जी जो प्रियालाल के अंगराग का वहन करती हैं तथा जीव को त्रितापों से मुक्त कर निर्मल कर देती हैं,श्री वृन्दावन धाम की लता-पता जो प्रिया प्रियतम के स्नेह से अभिसिंचित हैं और श्री वृन्दावन की रज जिसे प्रिया जी के श्री चरणों से प्रवाहित होने वाला अगाध अबाध प्रेम रस मकरन्द प्राप्त है, उनका आश्रय लेना परम अनिवार्य है। प्रेम का स्वरुप विशुद्ध है लेकिन संसार के सभी विषय अशुद्ध हैं अतः एक प्रेमप्रभु के अतिरिक्त कोई भी जीव के इस भाव का वहन नहीं कर सकता ।अतः वृन्दावन के रसिकों की सन्निधि में अन्य अभिलाषाओं से शून्य ज्ञान कर्मादि से अनावृत हो प्रभु के सर्वदा अनुकूल होकर इस प्रेमलक्षणा भक्ति का भावपूर्वक अनुशीलन करना चाहिए।